Home > Archived > कलेक्टर अंकल, प्लीज हमारी फीस कम करा दो,जीडी गोयनका स्कूल के विद्यार्थियों ने घेरा कलेक्टर निवास

कलेक्टर अंकल, प्लीज हमारी फीस कम करा दो,जीडी गोयनका स्कूल के विद्यार्थियों ने घेरा कलेक्टर निवास

कलेक्टर अंकल, प्लीज हमारी फीस कम करा दो,जीडी गोयनका स्कूल के विद्यार्थियों ने घेरा कलेक्टर निवास

ग्वालियर | कलेक्टर अंकल प्लीज हमारी फीस कम करवा दीजिए। हमारे स्कूल के$img_title डायरेक्टर ने फीस बहुत बढ़ा दी है। हमारे माता-पिता इतनी फीस नहीं भर पा रहे हैं। फीस पूरी न भरने की वजह से आज हमें स्कूल के अंदर नहीं घुसने दिया गया और स्कूल बस में भी नहीं चढऩे दिया गया। अपनी यह गुहार लेकर मंगलवार को कलेक्टर निवास पर जीडी गोयनका स्कूल के विद्यार्थी अपने अभिभावकों के साथ पहुंचे। यह बच्चे और इनके अभिभावक इन दिनों स्कूल संचालक द्वारा शिक्षण शुल्क में की गई बेहताशा वृद्धि और मनमानी से बेहद परेशान हैं। कलेक्टर ने भी बच्चों की सुनवाई तुरन्त की और स्कूल संचालक व शिक्षा अधिकारियों की क्लास ले डाली। मंगलवार को शिक्षण शुल्क में की गई बेहताशा वृद्धि से जीडी गोयनका विद्यालय के विद्यार्थियों का गुस्सा फूट पड़ा। गुस्साए छात्र अपनी समस्या का निराकरण कराने के लिए कलेक्टर निवास पर पहुंच गए। जानकारी के अनुसार जीडी गोयनका स्कूल के संचालक संतोष गर्ग द्वारा शिक्षण शुल्क में बेहताशा वृद्धि कर दी गई है। पूर्व में शिक्षण शुल्क 25 हजार रुपए प्रतिवर्ष था जबकि इस वर्ष फीस में ढाई गुना वृद्धि कर 6 0 हजार कर दी गई है। शिक्षण सत्र की शुरूआत से ही फीस वृद्धि को लेकर बच्चों के अभिभावकों और स्कूल संचालक के बीच खींचतान चल रही थी। अभिभावकों का कहना था कि वह बढ़ी हुई फीस का भुगतान नहीं करेंगे, जबकि स्कूल संचालक द्वारा अभिभावकों पर लगातार बढ़ी हुई फीस का भुगतान करने का दबाव बनाया जा रहा था। फीस का भुगतान न करने के कारण मंगलवार को कई बच्चों को स्कूल की बस में नहीं चढऩे दिया गया। जो बच्चे स्कूल पहुंचे उन्हें स्कूल के अंदर नहीं घुसने दिया गया। यह बात जब बच्चों के अभिभावकों को पता चली तो वह बच्चों को अपने साथ लेकर सीधे कलेक्टर पी. नरहरि के बंगले पर पहुंच गए। बच्चों को बंगले के गेट पर इकठ्ठा देख कलेक्टर सीधे उनके पास पहुंच गए। बच्चों से जब समस्या पूछी तो उन्होंने अपनी परेशानी बताई। कलेक्टर बच्चों को अपने साथ बंगले के अंदर ले गए। इत्मिनान से बच्चों की बात सुनी। बच्चों का पक्ष सुनने के बाद कलेक्टर ने स्कूल संचालक संतोष गर्ग और शिक्षा अधिकारियों को बंगले पर बुलवा लिया। कलेक्टर ने स्कूल संचालक को फीस कम करने का निर्देश दिया। साथ ही जिला शिक्षा अधिकारी को उचित कार्रवाई के आदेश दिए। इसके बाद बच्चे अपने-अपने अभिभावकों के साथ घर चले गए। 

Share it
Top