Home > Archived > त्ववादी नेता प्रधानमंत्री क्यों न बने : भागवत

त्ववादी नेता प्रधानमंत्री क्यों न बने : भागवत

लतूर,20 जून। प्रधानमंत्री पद पर दावेदारी के मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) खुलकर नरेंद्र मोदी के समर्थन में आ गया है। लातूर में संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए सवाल किया कि कोई हिंदुत्ववादी भारत का प्रधानमंत्री क्यों नहीं बन सकता? हालांकि, उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन साफ है कि भागवत, मोदी की दावेदारी के समर्थन में खुलकर आ गए हैं। प्रधानमंत्री पद पर नीतीश के बयान पर संघ प्रमुख ने एतराज जताते हुए कहा कि उन्हें यह बताने की जरूरत नहीं है कि कौन धर्मनिरपेक्ष है? उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री से सवाल किया कि क्या आज तक के प्रधानमंत्री धर्मनिरपेक्ष नहीं थे?
हीं, मोदी के पक्ष में मोहन भागवत के बयान पर जेडीयू ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। पार्टी प्रवक्ता शिवानंद तिवारी ने कहा है कि पार्टी किसी भी कीमत पर धर्मनिरपेक्षता के मुद्दे पर समझौता नहीं करेगी। उन्होंने संघ को कड़ी चेतावनी दी है कि बिहार की सरकार रहे या न रहे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन वे धर्मनिरपेक्षता और सामाजिक न्याय के मुद्दे पर अपनी प्रतिबद्धता से पीछे नहीं हटेंगे।

Share it
Top