Home > Archived > अन्ना ने लोकपाल विधेयक को कमजोर बताया

अन्ना ने लोकपाल विधेयक को कमजोर बताया

अन्ना ने लोकपाल विधेयक को कमजोर बताया


रालेगण सिद्धी
अन्ना हजारे ने लोकसभा में पेश किए गए लोकपाल विधेयक को ‘बहुत कमजोर’ बताते हुए खारिज कर दिया और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस विषय पर सार्वजनिक $img_titleबहस के लिए आने की चुनौती दी।

लोकसभा में विधेयक पेश किए जाने के कुछ देर बाद हजारे ने रालेगण सिद्धी में कहा कि नया विधेयक बहुत कमजोर और अनुपयोगी है तथा इससे भ्रष्टाचार पर लगाम नहीं लगेगी क्योंकि इसके दायरे में सीबीआई को नहीं लाया गया है।

हजारे ने कहा यह सरकार भ्रष्टाचार से निपटने में असमर्थ है। वे सीबीआई को मुक्त करने से क्यों डर रहे हैं। उन्हें डर है कि अगर सीबीआई लोकपाल के नियंत्रण में रहेगी तो जेल जाने वाले मंत्रियों की लाइन लग जाएगी। उन्होंने कहा कि अगर लोकपाल के दायरे में सीबीआई और निचली अफसरशाही को नहीं लाया जाता तो नया विधेयक बेकार है।

इससे पहले उन्होंने दिन में कहा सोनिया गांधी कहती हैं कि विधेयक मजबूत है। यदि ऐसा है तो आइए और मीडिया के सामने हमसे बहस कीजिए। इसे लोगों को देखने दो। आमने-सामने बहस होने दीजिए। देश के लोगों को समझाइये कि यह मजबूत है। हम स्पष्ट करेंगे कि यह किस तरह मजबूत नहीं है।

Share it
Top